शुक्रवार, 15 मई 2020

मुकम्मल इश्क़ ना हूआ

मुकम्मल इश्क़ ना हूआ हमारा तो क्या,
पर अधूरी कहानी तो है।
वो साथ नहीं तो क्या
पर उसकी निशानी तो है।
Mukammal ishq na huaa tumhara to kya,
Par adhuri kahani to hai.
Wo sath nhi to kya,
Par uski nishani to hai.
-Mahak

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

Thank You

MeriDiary Se

Get the latest Hindi Shayari, quotes, stories and jokes with text and image format at Meri Diary Se. Which you can share on your social media account. If you are fond of writing, you can get your article published with your name.




संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *